Browsing: Poetry

Poetry Zindagi by Nitish
Zindagi
By

ज़िंदगी वक्त है रेत सी फिसल गई है ता-उम्र कोशिश की संभाल कर रखने की फ़िर भी हथेलीयों से निकल सी गई है वो बचपन याद…

Poetry mausam poem by Arjun Awasty
मौसम ||
By

बालों को सहलाती ये सर्द हवाएं , गुज़रे दिन की हसीन शाम है | तपती दोपहरो में रोज़ कुछ पिघलते , उस गरीब की बेचैन रातो…

Poetry
शफ़क़त
By

रात की ख़ामोशी थी तन्हाई का सहारा था, हज़ारो ख्याल दिल को छू गए हर ख्याल में ज़िक्र तुम्हारा था। कहीं महफ़िल बेनूर थी कहीं तन्हाई…

Poetry Each is a Godsent by Tarini Suneja
Each is a Godsend
By

When things go awry, Do not withdraw, re-try; No breaking into bray, Many in the fray; All stars shine, oceans have brine, Don’t whine, be benign;…

Poetry Safar by Anvaya
सफ़र
By

ना शाखाओ ने जगह दी ना आंधियो ने बख्शा, बता वो पत्ता जाये भी तो कहां जाये। गर्द नाकामियों की इतनी चढ़ी है, अब चेहरा भी…

Poetry Kuch Sawaal by Nitish
कुछ सवाल
By

मेरी डायरी के कोरे पन्ने कर बैठे एक सवाल अरसा बीता लिखे उनपर कोई कलाम बस इतना सा था मेरा जवाब “मैंने लिखना छोड़ दिया” ।…

Poetry Undying Hope
Undying Hope
By

Everything happening around me, seemed wrong, And then, I was tired of being strong. The typhoon attacking my soul was not in a mood to end,…

On a Lighter Note Doing things Auditors Way, poem on auditor
A Hymn for the Auditors
By

Errors are unintentional, Making internal controls including internal checks vital; Frauds are deliberate, Several risks they procreate, Material misstatements which can create; Data security issues aplenty,…