Browsing: Literature

Poetry Zindagi by Nitish
Zindagi
By

ज़िंदगी वक्त है रेत सी फिसल गई है ता-उम्र कोशिश की संभाल कर रखने की फ़िर भी हथेलीयों से निकल सी गई है वो बचपन याद…

On a Lighter Note Demonetization eating peanuts
Demonetization- ‘Deep Hidden Benefits’
By

The real purpose of demonetization, was it to bring back the lost pride of Color Pink or was it to teach us to stand in a Queue. What were the real reasons to ban these Rs.500 and Rs. 1000 notes? Find out in this highly confidential post as we reveal the the hidden benefits of demonetization.

Poetry mausam poem by Arjun Awasty
मौसम ||
By

बालों को सहलाती ये सर्द हवाएं , गुज़रे दिन की हसीन शाम है | तपती दोपहरो में रोज़ कुछ पिघलते , उस गरीब की बेचैन रातो…

Poetry
शफ़क़त
By

रात की ख़ामोशी थी तन्हाई का सहारा था, हज़ारो ख्याल दिल को छू गए हर ख्याल में ज़िक्र तुम्हारा था। कहीं महफ़िल बेनूर थी कहीं तन्हाई…

1 2 3