Browsing: patriotism

Poetry shaurya poem by anvayana baranwal
शौर्य
By

पठानकोट के धमाको से आंखे तो खुली होंगी, गर अब भी हथेली मुट्ठी ना बनी तो ये बुजदिली होगी। यकीन है की ऊंघती सरकारें जागेंगी इस…