Browsing: Reading

Poetry Aakhiri Khat- A nazm by Nitish
आख़िरी ख़त
By

तुम्हारा एक पुराना ख़त आज अलमारी के कोने में पड़ा मिला धूल जमी हुई थी कुछ उस पर हल्का सा झाड़ा और धूल हटी तो याद…